Ek aaiina thaa TuuT gayaa dekhbhaal meN…Seemab Akbarabadi

dil ki bisaat kyaa thii nigaah-e-jamaal meN
ek aaiinaa thaa TuuT gayaa dekh bhaal meN

For reading this Ghazal in Roman script go to http://www.indscribe.blogspot.com

दिल की बिसात क्या थी निगाह-ए-जमाल में
एक आईना था टूट गया देखभाल में

सब्र आ ही जाए गर हो बसर एक हाल में
इमकां एक और ज़ुल्म है क़ैद-ए-मुहाल में

आज़ुरदा इस क़दर हूं सराब-ए-ख़याल से
जी चाहता है तुम भी न आओ ख़याल में

तंग आ के तोड़ता हूं तिलिस्म-ए-ख़याल को
या मुतमईन करो कि तुम्हीं हो ख़याल में

दुनिया है ख़्वाब हासिल-ए-दुनिया ख़याल है
इंसान ख़्वाब देख रहा है ख़याल में

उम्रर-ए-दो-रोज़ा वाक़ई ख़्वाब-ख़याल थी
कुछ ख़्वाब में गुज़र गई बाक़ी ख़याल में
(सीमाब अकबराबादी)

4 Responses

  1. Great poetry by Seemab

  2. kuch aur maangna mere maslak me kufr he… laa apna haath de mere daste sawaal me…. me to tere khayaal ko sau baar chord doon.. tum ko bhi chaahiye ke na aana khayaal me..

  3. Umdah ghazal thi bil khusoos last sher

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: